खुशी रास्ता भूल गई

 

पता नहीं

कहांसे आयी और

कब, क्योंकर

चली गई

 

अचानक

एक दिन

मेरे आंगन

वो आयी

 

चूपके से

अनजाने

दिलमें वो

समाई

 

पलभरमें

हर समाँको

खुशहाल

दिखलाई

 

लेकिन

हाय किस्मत

एक दिन वो

गायब हुई

 

अगर

पलटके देखें

तो जाने

जो हुई बेहाली

 

 खुशी

भूलसे आयी थी

या तो

रास्ता भूल गई

 

Background “big1561.jpg” taken from

http://www.backgroundsgiant.com

 

 

Page views

Free Counter
Free Counter
.